तांदूळ धुतलेल्या पाण्याला कमी लेखू नका, ते फेकण्यापूर्वी जाणून घ्या हे 3 फायदे

तुम्हाला तांदूळ आवडतो का? पण तुम्ही तांदूळचे पाणी बेकार समजून फेकून देता? तसे असल्यास, आपण एक मोठी चूक करीत आहात. कारण आरोग्यासाठी तांदूळ किती फायदेशीर आहे हे आपल्याला माहित नाही. हे पाणी दररोज प्यायल्याने अनेक रोग दूर होऊ शकतात. होय, तांदळाच्या पाण्याचे फायदे जाणून घेतल्यानंतर, पुढच्या वेळी फेकण्यापूर्वी चार वेळा विचार कराल. चला तर मग, तांदळाच्या पाण्याच्या फायद्यांबद्दल जाणून घेऊया.

त्वरित ऊर्जा देतो

हे आपल्या शरीरासाठी उर्जेचा सर्वोत्तम स्त्रोत आहे. होय, त्यात बरेच प्रमाणात कार्बोहायड्रेट असतो, जे आपल्याला दिवसभर थकावट जाणवू देत नाही आणि ऊर्जा राखुन ठेवते. शरीरात उर्जा निर्माण करण्याचा हा सर्वोत्तम मार्ग आहे. याशिवाय, तांदूळ पाणीमध्ये व्हिटॅमिन भरपूर प्रमाणात असतो, ज्यामध्ये व्हिटॅमिन बी, सी, ई आणि खनिजे असतात जे थकवा दूर करण्यात मदत करतात.

ताप असल्यास फायदेशीर

जर आपल्याला व्हायरल इन्फेक्शन किंवा ताप असेल तर तांदूळ पाणी प्यावे, ज्याने शरीरात पाण्याची कमतरता होऊ देत नाही. तसेच आपल्या शरीराला आवश्यक पोषक तत्त्वे मिळत राहतील, ज्यामुळे आपल्याला तापाने पुन्हा बरे होण्यास मदत होईल.

पचन तंत्र सुधारते

तांदूळ पाण्यात भरपूर प्रमाणात फायबर असतो, ज्यामुळे चयापचय वाढण्यास मदत होते. याव्यतिरिक्त, ते पचन क्रिया सुधारून चांगला जीवाणू सक्रिय करून पाचन तंत्र सुधारते. पचन क्रियेचा कोणतीही समस्या होत नाही. म्हणून पुढच्या वेळी तांदूळ पाणी फेकण्याची चूक करू नका, परंतु त्याच्या फायद्यांचा पूर्ण फायदा घ्या.

घरों में इन चिजों से बढ़ती है गरीबी, गलती से भी इसे अनदेखा न करें

दुधात मध घालून पिल्याने होतात हे 3 चमत्कारिक फायदे, आत्ताच जाणून घ्या

मध आणि दुधाचे दोन्ही दैनिक आहार नियोजन मानले जातात. दूध आणि मधुमेहाचे अनेक फायदे आहेत,तरी मध आणि दुध हे दोन्ही घटक एकत्रित केले गेले, तर त्याची फायदा दुप्पट होतो. मधात प्रथिने, अल्युमिनिम, चरबी, रासायनिक अमीनो ऍसिड, स्टार्च, धूळ, केशर, आयोडीन आणि लोह, तांबे, मॅंगनीज, पोटॅशियम, सोडियम, फॉस्फरस, कॅल्शियम, क्लोरीन समाविष्ट असते.

  • पचनदररोज एक चमचे दुधात दोन चमचे मध घालून पिल्याने पाचन तंत्र सुधारते. कब्जची समस्यापासून मुक्ती मिळते. हे रोज घेतल्यास पोट आणि आतड्यांशी संबंधित समस्या उद्भवत नाहीत.
    • अँटिऑक्सिडेंट

    दूध आणि मध घेतल्याने त्वचा केवळ चमकत नाही तर शरीराला देखील आराम देते. प्राचीन काळापासून, ग्रीक, रोमन, इजिप्शियन, भारतसारख्या देशांमध्ये तरुण दिसण्यासाठी दुध आणि मध एक अँटिऑक्सिडेंट संपत्ती म्हणून वापरण्यात आले.

    • ताकत
    • दररोज एक ग्लास दुधात मध घेतल्याने शरीरास आंतरिक शक्ती मिळते. दुधामध्ये प्रथिन असतो तर, मधामध्ये पुरेशा प्रमाणात कर्बोदक असतो. दूध आणि मध पिल्याने शरीराला ऊर्जा मिळते आणि चयापचय क्रिया वाढते.

चाणक्य नीति : प्रत्येक व्यक्तीला या 5 गोष्टींमध्ये सावध राहणे आवश्यक असते

हर रोज इस चीज को खाने से मिलते है चमत्कारिक फायदे, अभी जानें

अखरोट जो मुख्य रूप से सूखे मेवों में वितरित किए जाते हैं, शरीर के लिए अत्यधिक फायदेमंद होते हैं। अखरोट में कई स्वस्थ गुण हैं, और यह शरीर के रोगप्रतिकारक शक्ति को बढ़ाने के लिए बहुत फायदेमंद है। इस चीज ब्रेन फूड भी कहा जाता है और यह मस्तिष्क को मजबूत बनाने के लिए फायदेमंद है। इतना ही नहीं, अखरोट खाने से स्मरणशक्ति के लिए फायदेमंद होता हैं। अखरोट दिल से संबंधित बीमारियों के लिए भी प्रभावी है। अखरोट का उपयोग चॉकलेट, कुकीज, लड्डू, मिल्क शेक आदि खाद्य पदार्थों में किया जाता है।

तो चलिए जानते हैं अखरोट खाने के फायदों के बारे में

  • अगर शरीर के किसी हिस्से में दर्द, जलन या सूजन है, तो उस पर अखरोट का पेस्ट लगाने से आराम मिलेगा।
  • अखरोट के पत्तों को चबाने से आपके दांतों का दर्द कम हो जाता है।
  • रोज अखरोट खाने से शरीर पर सफेद दाग की समस्या दूर हो जाती है।
  • अगर आप डाइट में हर दिन 5 अखरोट और 15 से 20 किशमिश शामिल करते हैं, तो अनिद्रा की समस्या हल हो जाएगी। अखरोट में मेलाटोनिन पाया जाता है, जो नींद के लिए प्रभावी होता है।
  • अखरोट खून में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम रखने का काम करते हैं। साथ ही पाचन में भी मददगार होता हैं। पेट की तकलीफ और पेट की समस्याओं के लिए भी यह फायदेमंद होता है। एक दिन में 2 से 3 अखरोट खाने से वजन कम होता है।

MORE

चाय पीने से होने वाले इस फायदे को जानकर खुश हो जाओगे, अभी जा

चाय पीने से होने वाले इस फायदे को जानकर खुश हो जाओगे, अभी जा

सुबह की शुरुआत तब होती है जब चाय का अस्वाद लेंगे। भारत में चाय सबसे व्यापक रूप से पिए जाने वाला पेय है। लेकिन वर्तमान युवा चाय नहीं पीते हैं। लेकिन चाय पीने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। एक अध्ययन से पता चला है कि, चाय पीने से एकाग्रता में वृद्धि होती है, जो मन में कई चीजों के बारे में विचार को अधिक स्पष्ट बनाती है। शोधकर्ताओं ने यह निष्कर्ष चीन की पेकिंग यूनिवर्सिटी में एक अध्ययन के बाद निकाला है।

व्यक्ति सतर्क और सतर्क रहता है

बीजिंग के पेकिंग विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने यह भी बताया है कि, चाय में कैफीन और थीनिन का दिमाग में रचनात्मक सोच से कैसे संबंधित हैं। इस अध्ययन में यह पाया गया है कि, चाय पीने के तुरंत बाद, व्यक्ति के दिमाग में एक रचनात्मक विचार का प्रवाह महसूस हुआ है।

इस तरह हुआ प्रयोग

मनोवैज्ञानिकों ने दो अलग-अलग समूहों में 50 छात्रों की मदद से प्रयोग किया। इसमें 23 वर्ष की आयु के कुल समूह के छात्रों को पानी उपलब्ध कराया, जबकि ब्लैक चाय दूसरे समूह के छात्रों को दी गई। उसके बाद इन छात्रों की रचनात्मकता को देखने के लिए एक आकर्षक आकार की इमारतें बनाने के लिए ब्लॉक्स दिए गए और दूसरों को एक काल्पनिक होटल को ‘बेहतर’ नाम देने के लिए कहा गया।

मनोवैज्ञानिक ने निष्कर्ष निकाला है कि, निर्माता के डिजाइन और पदनामों को देखते हुए चाय पिनेवाले अधिक रचनात्मक और आकर्षक हैं। उन्होंने यह भी कहा कि, एक व्यक्ति कितनी चाय पीता है इसपर उसके विचार और रचनात्मक निर्भर करता है। हालाँकि चाय सोचने की शक्ति के लिए अच्छी है, लेकिन यह भी चेतावनी है कि इसका अधिक सेवन खतरनाक है।

MORE-हर रोज इस चीज को खाने से मिलते है चमत्कारिक फायदे, अभी जानें